Schedules of Indian Constitution || भारतीय संविधान की अनुसूचियाँ


Schedules of Indian Constitution

दोस्तो आज हम भारतीय संविधान की अनुसूचियों(Schedules of Indian Constitution) के बारे में चर्चा करेंगे।

Schedules of Indian Constitution

भारतीय संविधान की अनुसूचियाँ

हमारे मूल संविधान में 8 अनुसूचियाँ थी और वर्तमान में अनुसूचियों की संख्या 12 है, आज हम इन अनुसूचियों के बारे में ही पढेंगे।

1. पहली अनुसूचीः राज्य व संघ राज्य क्षैत्र। इसमें भारत के 29 राज्यों तथा 7 संघ राज्य क्षैत्रों का उल्लेख है।

2. दूसरी अनुसूचीः इसके अन्तर्गत भारत के प्रमुख पदाधिकारियों यथा- राष्ट्रपति और राज्यपालों लोकसभा अध्यक्ष व उपाध्यक्ष, राज्यसभा के सभापति-उपसभापति,विधानसभा के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष तथा विधानपरिषद के सभापति व उपसभापति, उच्चतम न्यायालय तथा उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों तथा भारत के नियंत्रक महालेखा परीक्षक को प्राप्त होने वाले वेतन, भत्ते, पेंशन आदि का उल्लेख है।

3. तीसरी अनुसूची- शपथ और प्रतिज्ञान के प्रारूप, इसके तहत संसद के सदस्योंव संघ के मंत्रियों, उच्चतम न्यायालय तथा उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों, राज्य विधान मण्डल के सदस्यों व मंत्रियों तथा भारत के नियंत्रक महालेखा परीक्षक को दिलाये जाने वाले शपथ का प्रारूप दिया गया है। ज्ञातव्य है कि अनु. 60 के तहत राष्ट्रपति द्वारा, अनु. 69 के तहत उपराष्ट्रपति द्वारा तथा अनु. 159 के तहत राज्यपाल द्वारा ली जाने वाली शपथ का प्रारूप दिया गया है।

भारतीय संविधान की अनुसूचियाँ

4. चौथी अनुसूची- इसके अन्तर्गत भारत के सभी 28 राज्यों तथा 2 संघ राज्य क्षेत्रों के राज्य सभा में प्राप्त प्रतिनिधित्व का विवरण दिया गया है। उल्लेखनीय है कि राज्य सभा की कुल 245 सीटों में से 233 सीटें विभिन्न राज्यों को आवंटित हैं, जिसमें सर्वाधिक 31 सीट उत्तर प्रदेश की है।

5. पाचवीं अनुसूची- इसमें अनुसूचित क्षेत्रों और अनुसूचित जनजातियों के प्रशासन व नियंत्रण के बारे में उपबन्ध है।

6. छठी अनुसूची- इसके तहत असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम के जनजाति क्षेत्रों के प्रशासन के बारे में उपबन्ध किया गया है।

7. सातवीं अनुसूची- इसमें संघ और राज्यों के मध्य शक्तियों के विभाजन के बारे में दिया गया है। इसके अन्तर्गत निम्नलिखित तीन सूचियाँ है। यथा-1.संघ सूची 2. राज्य सूची 3. समवर्ती सूची।

संघ सूची में कुल 97 विषयों का उल्लेख है जिस पर विधि बनानेका अधिकार केवल संघ को है। राज्य सूची में कुल 66 विषय है जिन पर विधि राज्य द्वारा बनाई जाती है। समवर्ती सूची में कुल 47 विषयों का उल्लेख है जिन पर विधि बनाने का अधिकार संघ तथा राज्य दोनों को है।

Schedules of Indian Constitution

8. आठवीं अनुसूची- भाषाएँ- मूल रूप से आठवीं अनुसूची में कुल 14 भाषायें थी। वर्तमान में इसके अन्तर्गत 22 भाषाएँ हैं। 1967 में सिंधी को 1992 में कोकणी, नेपाली तथा मणिपुरी को तथा 2004 में संथाली, डोगरी, मैथली तथा बोडो को शामिल किया गया है।

9. नौवीं अनुसूची- इसमें कुछ अधिनियम और विनिमयों के विधिमान्यीकरण का उपबन्ध किया गया है। इस अनुसूची में सम्मिलित विषयों को न्यायालय में चुनौती नहीं दी जा सकती है। वर्तमान में इस अनुसूची में कुछ 284 अधिनियम है। यह अनुसूची प्रथम संविधान संशोधन अधिनियम 1951 द्वारा जोङी गयी है।

10. दसवीं अनुसूची- इसमें दल-बदल से सम्बन्धित प्रावधानों का उल्लेख किया गया है। इसे 50 वें सविधान संशोधत अधि. 1985 द्वारा जोङा गया है। उल्लेखनीय है कि दल-बदल के आधार पर निरर्हता सम्बन्धी प्रश्नों का विनिश्चय यथास्थिति सदन के अध्यक्ष या सभापति द्वारा जाता हैं।

11. ग्यारहवीं अनुसूची- इसमें पंचायतों को शक्तियाँ तथा प्राधिकार प्रदान किया गया है। इसके अन्तर्गत पंचायतों को कार्य करने के लिए कुल 29 विषय प्रदान किये गये है। इसे 73 वें संविधान संशोधन द्वारा जोङा गया है।

12. बारहवीं अनुसूची- इसमें नगरपालिका की शक्तियों का उल्लेख है। इसके अन्तर्गत शहरी क्षेत्र की स्थानीय निकायों को कार्य करने के लिए 18 विषय प्रदान किये गये है। यह अनुसूची 74 वें संविधन संशोधन द्वारा स्थापित की गई है।

अन्य पोस्ट भी पढ़ें 

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.