सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0

सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 – Mission Indradhanush 4.0 || पूरी जानकारी पढ़ें

आज के आर्टिकल में हम सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0(Mission Indradhanush 4.0) के बारे में कम्पलीट जानकारी पढेंगे ,इस योजना के विस्तार को हम जानेंगे। mission indradhanush 4.0 In hindi.

सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0

मिशन इंद्रधनुष 4.0

सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 क्या है?

कोरोना के कारण देश मे टीकाकरण की गति धीमी हो गयी थी, तो इसे तेज करने के लिए सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 की शुरुआत 7 फरवरी ,2022 से की गई है।मिशन इंद्रधनुष 4.0 की शुरुआत केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने की। मिशन के अंतर्गत 0 से 2 वर्ष तक के छोटे बच्चों को नौ प्रकार की बीमारियों से बचाने के लिए चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से सात फरवरी से सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा।

देश मे टीकाकरण की गति को और तेज करने के लिए सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 की आज शुरुआत की गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने इसकी शुरुआत की है। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री ने मिशन इंद्रधनुष पोर्टल भी लांच किया।

तीन चरणों में किया जाएगा टीकाकरण

मिशन इंद्रधनुष 4.0 में तीन चरणों में टीकाकरण किया जाएगा। स्वास्थ्य कर्मी, आंगवाड़ी कार्यकर्ता और आशा सहयोगिनी की टीम टीकाकरण कार्य करेगी।

चरणसमयकाल
प्रथम चरण7 से 13 फरवरी,2022
द्वितीय चरण7 से 13 मार्च,2022
तृतीय चरण4 से 10 अप्रैल,2022
इस टीकाकरण के मिशन में 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 416 जिलों शामिल किया जाएगा। इस कार्यक्रम के पहले चरण में फरवरी से अप्रैल के बीच 11 राज्यों में टीकाकरण किया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार इन राज्यों में असम, गुजरात, मेघालय,जम्मू-कश्मीर, मिजोरम, नगालैंड, राजस्थान, सिक्किम, त्रिपुरा,उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ शामिल हैं। अन्य 22 राज्यों में अप्रैल से मई के बीच इसका चरण शुरू होगा। इन राज्यों में अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, ओडिशा, बिहार, पुडुचेरी,आंध्र प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, गोवा, तमिलनाडु, तेलंगाना, झारखंड, उत्तर प्रदेश, केरल, पश्चिम बंगाल, मध्यप्रदेश और हरियाणा हैं।

कौन – कौन से टीके शामिल

बच्चों के लिएबीसीजी, पोलियो,रोटा वायरस हेपेटाइटिस बी, पेंटावेलेंट,आरवीवी, पीसीवी, विटामीन ए, एमआर,एफआईपीवी
गर्भवती महिलाओं के लिएटीडी 1, टीडी 2 और बूस्टर टीडी
मिशन के तहत 0 से 2 वर्ष तक के बच्चों को नौ प्रकार की बीमारियों से बचाने के लिए बीसीजी, पोलियो, पेंटावेलेंट,हेपेटाइटस बी, एफआईपीवी, आरवीवी, पीसीवी तथा एमआर के टीके लगाए जाएंगे। इसी प्रकार नियमित टीकाकरण से वंचित रही गर्भवती महिलाओं को टीडी-1, टीडी-2 व बुस्टर टीडी के टीके लगाए जाएंगे।

मिशन इंद्रधनुष 4.0 के फायदे

  • नियमित टीकाकरण से वंचित छोटे बच्चे व गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण होगा
  • बच्चों और माताओं का सौ फीसद होगा टीकाकरण
  • दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top
%d bloggers like this: