Plateau of the World || विश्व के पठार || World geography

दोस्तों आज की पोस्ट में हम विश्व भूगोल के अंतर्गत विश्व के पठारों(Plateau of the World) की चर्चा करेंगे ,आप इसे अच्छे से तैयार करें 

विश्व के प्रमुख पठार

  •  ग्रीनलैंड का पठार – अन्ध महासागर के उत्तरी भाग में लगभग 21,75, 600 वर्ग किमी क्षेत्र में हिम से ढका विशाल पठार है। इसे ग्रीनलैंड का पठार कहा जाता है।
  • कोलम्बिया का पठार- यह सं. रा. अमेरिका के ओरगन, वाशिंगटन और इडाहो राज्यों के मध्य
  • 62,500 वर्ग किमी क्षेत्र में विस्तृत रूप में फैला है।
  •  मैक्सिको का पठार – यह पठार पश्चिम सियाराममादे्र और पूर्वी सियारामादे्र पर्वत श्रेणियों के मध्य स्थित है।
  • तिब्बत का पठार – यह हिमालय के उत्तर और क्यूनलुन पर्वत के दक्षिण में 4,000 से 5,000 मीटर तक की ऊँचाई पर स्थित है।
  •  मंगोलिया का पठार – यह चीन के उत्तरी मध्य भाग में मंगोलिया गणराज्य में स्थित है।
  •  ब्राजील का पठार – द. अमेरिका के मध्य पूर्वी भाग में यह पठार त्रिभुजाकार रूप में स्थित है।
  •  बोलीविया का पठार – यह पठार 800 किमी लम्बा और 128 किमी चैङा तथा इसकी औसत ऊँचाई 3,110 मीटर है। यह बोलीविया के एण्डीज पर्वतमाला क्षेत्र में विस्तृत रूप में स्थित है।
  •  अलास्का का पठार – इसका निर्माण यूकन और उसकी सहायक नदियों द्वारा हुई है अतः इसे यूकन का पठार भी कहा जाता है। कनाडा की ओर इसकी ऊँचाई लगभग 900 मी. है।
  •  ग्रेट बेसिन का पठार – यह कोलम्बिया पठार के दक्षिण में कोलोरेडो और कोलम्बिया नदियों के मध्य 5,25,000 वर्ग किमी क्षेत्र में विस्तृत है।
  •  कोलोरेडो का पठार – यह ग्रेट बेसिन के दक्षिण में स्थित है तथा इसका विस्तार युटाह और ऐरीजोना राज्यों में पाया जाता है।
  •  दक्कन का पठार – यह पठार द. भारत में स्थित है। इसे तीन ओर से पर्वत-श्रेणियों ने घेर रखा है। इसके पूर्व में पूर्वी घाट, पश्चिम में पश्चिमी घाट तथा उत्तर में विंध्याचल एवं सतपुङा की श्रेणियाँ हैं।
  •  ईरान का पठार – इसे एशिया माइनर का पठार या ईरान का मध्यवर्ती पठार भी कहते हैं। इसकी औसत ऊँचाई 900-1500 मीटर के मध्य है।
  •  अरब का पठार – यह दक्षिण-पश्चिम एशिया में स्थित है। इसके पूर्व में फारस की खाङी, पश्चिम में लाल सागर, उत्तर-पश्चिम में भूमध्य सागर और दक्षिण में अरब सागर स्थित है।
  •  अनातोलिया का पठार – यह टर्की के एन्टिक एवं टारस श्रेणियों के मध्य स्थित है। इसे टर्की का पठार भी कहते हैं। इसकी औसत ऊँचाई 800 मीटर है।
  •  अबीसीनिया का पठार – यह पठार पूर्वी अफ्रीका के इथियोपिया एवं सोमालिया के क्षेत्र में विस्तृत रूप में फैला है।
  •  मेडागास्कर का पठार – मेडागास्कर द्वीप अफ्रीका के दक्षिण-पूर्व हिन्द महासागर में स्थित है। इस द्वीप के मध्यवर्मी भाग पठारी हैं, जिसे मेडागास्कर या मालागासी का पठार कहा जाता है।
  •  आस्ट्रेलिया का पठार – आस्ट्रेलिया के पश्चिमी भाग में आस्ट्रेलिया का पठार स्थित है। इसकी सामान्य ऊँचाई 180 से 600 मी. के मध्य है। इस पठार का दक्षिणी भाग मरुस्थलीय है।
  • चियापास का पठार – यह दक्षिणी मैक्सिको में प्रशान्त महासागर के तट पर स्थित है। इसके उत्तर में तबास्को, दक्षिणी-पश्चिम में तेहुआ-न्टेपेक की खाङी, पूर्व में ग्वाटेमाला और पश्चिम में ओकस्का और बेराक्रुज स्थित है।
  •  मेसेटा का पठार – स्पेन के आइबेरियन प्रायद्वीप पर मेसेटा का पठार स्थित है। इस पठार की औसत ऊँचाई 610 मी. है।
  •  इण्डोचीन का पठार – यह दक्षिणी एशिया के पूर्वी प्रायद्वीप पर स्थित है। इस भाग पर सालविन, सीकांग, मीकांग, मीनाम आदि नदियाँ प्रवाहित होती हैं।

ये भी जरुर पढ़ें ⇓⇓⇓⇓

विश्व की महत्वपूर्ण झीलें

विश्व की प्रमुख नदियाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.